“राधेश्याम अमर और ओमप्रकाश ग्रोवर का सफल नेत्रदान”

“राधेश्याम अमर और ओमप्रकाश ग्रोवर का सफल नेत्रदान”

ऋषिकेश-नेत्रदान  के प्रति बढ़ते प्रचार व प्रसार के कारण नेत्र दान के लिए समाज में जन-जागरूकता बढ़ती जा रही है। अपने परिजनों के जाने का ऐसा गम ,जिसमें वापसी भी संभव नहीं है, के कारणवश परिवार वाले नेत्रदान को भूल जाते हैं। दुख की घड़ी में कोई निकटतम व्यक्ति यदि नेत्रदान के बारे में  भी बात  करें तो शोक संतप्त परिवार स्वयं नेत्रदान  के लिए कहता है ।



ऐसी ही घटना  गत सप्ताह तब घटित हुई जब आवास विकास कॉलोनी निवासी श्री राधेश्याम अमर के निधन पर चेतन गुम्बर ने उनके पौत्र चिराग अमर को नेत्रदान का याद दिलाया तो ,उन्होंने तुरंत नेत्रदान कार्यकर्ता व लायंस क्लब ऋषिकेश  देवभूमि के चार्टर अध्यक्ष गोपाल नारंग को सूचित किया ,जिनके आग्रह पर कंधे से कंधा मिलाकर चलने वाले वरिष्ठ समाजसेवी सरदार गुरविंदर सिंह के एल गुप्ता इंस्टीट्यूट की नेत्रदान की टीम के साथ उनके निवास पर पहुंचे और नेत्रदान का पुनीत कार्य कराया। दूसरी तरफ मनीराम मार्ग निवासी ओमप्रकाश ग्रोवर के निधन पर उनके दामाद गिरीश छावड़ा से नेत्रदान की  सहमति राकेश रावल ने भी  नारंग को सूचित किया । नारंग तुरंत एम्स हॉस्पिटल  की नेत्रदान की रेस्क्यू टीम के साथ उनके निवास पर पहुंचे जहां टीम में दोनों कार्निया सुरक्षित प्राप्त कर लिए । नेत्र दान की सेवा  पर वेद छाबड़ा, पवन गुम्बर ,अशोक अमर ,संजय नारंग, मेजर राजीव ढल्ल ,जितेंद्र आनंद, अनिल कक्कड़  व करमजीत ने परिवार को साधुवाद दिया।  नेत्रदान महादान हरिद्वार ऋषिकेश प्रमुख रामशरण चावला के अनुसार मिशन का  यह 310 वां सफल प्रयास है जिससे 620 व्यक्ति  लाभान्वित हो चुके हैं।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: