सावन की शिवरात्रि के महापर्व पर हर हर महादेव के गूजांयमान उद्वोषों से गूंजे शिव मंदिर

सावन की शिवरात्रि के महापर्व पर हर हर महादेव के गूजांयमान उद्वोषों से गूंजे शिव मंदिर

कैबिनेट मंत्री ने सोमेश्वर मंदिर में किया जलाभिषेक

नीलकंठ मंदिर में उमड़े कांवड़िए, देवभूमि के मंदिर रहे भक्तों से गुलजार

शिव गौरी के दुर्लभ संजोग ने पर्व को बनाया खास

ऋषिकेश-सावन माह का महापर्व शिवरात्रि धूमधाम से मनाया गया। शिव गौरी के दुर्लभ संजोग के चलते इस वर्ष यह महा पर्व शिवभक्तों के लिए खास रहा ।नीलकंठ महादेव से लेकर शहर के सभी पौराणिक शिव मंदिरों में दिनभर भोले बाबा के जयकारे गूंजते रहे।

​ ​


सावन माह में भगवान शिव धरती पर उतरकर अपने भक्तों की मनोकामनाओं को पूर्ण करते है। इसी विश्वास के चलते भक्तों ने बाबा का गंगाजल से अभिषेक किया। शिवरात्रि को लेकर भी भक्तों में खासा उत्साह दिखाई दिया। श्रद्धा और आस्था के प्रतीक इस पर्व को देवभूमि ऋषिकेश के विभिन्न शिवालयों में भी धूमधाम से मनाया गया। सावन की शिवरात्रि पर चन्द्रेश्वर, सोमेश्वर एवं वीरभ्रदेश्वर महादेव मंदिर सहित विभिन्न शिवालय ओम नम: शिवाय के जयकारों से गूंज उठे। जलाभिषेक को शिवालयों में लंबी लाइनें दिनभर लगी रहीं। तमाम शिवभक्तों ने रुद्राभिषेक भी किया। शिवरात्रि से जुड़ी पौराणिक कथा के मुताबिक इसी दिन समुद्र मंथन के दौरान निकले कालकूट नामक विष को भगवान शिव ने अपने कंठ में रख लिया था। जिसके प्रभाव को शांत करने के लिए देवी देवताओं ने बाबा भोले का जलाभिषेक किया था।उल्लेखनीय है कि शिवरात्रि पर्व में शिवभक्त रातभर ओम नम: शिवाय का जप करते हैं। मंदिरों में शिवलिंग पर दूध, घी, शहद चढ़ाते हैं और भोलेनाथ की पूजा करते हैं। मंगलवार को तपोभूमि पूरी तरह से शिवमय रही। चारों ओर ओम नम: शिवाय के जप व जयकारे सुनाई दे रहे थे। नीलकंठ महादेव मंदिर में तो ब्रह्म मूहुर्त से शिवभक्तों की लंबी लाइन जलाभिषेक को लगने लगी थी। बाबा के दरबार में तमाम काबड़ियां पहुंचे और बोल बम के जयकारे लगाते हुए जलाभिषेक किया।उधर सावन मास की शिवरात्रि के अवसर पर कैबिनेट मंत्री व क्षेत्रीय विधायक डा. प्रेमचंद अग्रवाल ने धर्मपत्नी श्रीमति शशीप्रभा अग्रवाल के साथ सोमेश्वर महादेव मंदिर में जलाभिषेक किया। इस मौके पर विधिवत पूर्जा अर्चना के बाद प्रदेश की जनता के उत्तम स्वास्थ्य, उन्नति की कामना भी की।मंगलवार को सोमेश्वर महादेव मंदिर पर भगवान शंकर का जलाभिषेक कर डा. अग्रवाल ने मंदिर परिसर पर मौजूद शिवभक्तों को शिवरात्रि की शुभकामना दी। डा. अग्रवाल ने कहा कि सावन मास भगवान शिव को अत्यधिक प्रिय है। हर महीने कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है, मगर सावन में आने वाली शिवरात्रि का विशेष महत्व होता है।डा. अग्रवाल ने कहा कि सावन मास में भगवान शिव की विधिवत पूजा करने का विधान है। भक्तजऩ शिवजी की कृपा पाने के लिए विभिन्न तरीके से पूजा करके प्रसन्न करने की कोशिश करते हैं। कहा कि सावन मास की शिवरात्रि का दिन काफी महत्वपूर्ण है। बताया कि इस दिन से कांवड़ यात्रा समाप्त हो जाती है और कांवड़िए लाए हुए गंगाजल से शिवजी का अभिषेक करते हैं।डा. अग्रवाल ने कहा कि भगवान शिव को जल की धारा अधिक प्रिय है। कहा कि ऐसी मान्यता है कि इस दिन जलाभिषेक से शिवभक्तों के सारे कष्ट दूर होते है। इस मौके पर मंत्री डा. प्रेमचंद अग्रवाल ने प्रदेश की जनता के उत्तम स्वास्थ्य, उन्नति, सुख-समृद्धि और खुशहाली की कामना भी की।इस मौके पर शशिप्रभा अग्रवाल, सोमेश्वर मंदिर महंत रामेश्वर गिरी, मण्डल अध्यक्ष दिनेश सती, महामंत्री सुमित पंवार, महिला मोर्चा अध्यक्ष उषा जोशी, गोपाल सती, पार्षद अनिता रैना, रूपेश गुप्ता, माधवी गुप्ता आदि उपस्थित रहे।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: