कांवड़ मेले में भोलेनाथ की भक्ति दे रही है शक्ति!

कांवड़ मेले में भोलेनाथ की भक्ति दे रही है शक्ति!

ऋषिकेश-मन में अगाध आस्था हो तो हर संकल्प पूर्ण किया जा सकता है।बात अगर शिवजी की भक्ति की हो तो शक्ति भी भोलेनाथ की कृपा से आ जाती है।

​ ​


कावंड़ मेले के दौरान नीलकंठ महादेव मंदिर के पैदल मार्ग पर आस्था के भी कई रंग नजर आ रहे हैं। यहां कोई शिवभक्त शरीर से लाचार होने के बाद भी कंधे पर कांवड़ उठाकर मंदिर में जलाभिषेक के लिए पहुंच रहा है तो कोई शरीर के बल रेंगते हुए मंदिर में पहुंच रहा हैं।अनेकों महिलाएं भी अपने परिवार सहित नंगे पांव कांवड़ उठाकर शिवधाम कूच करते हुए रोजाना दिखाई दे रही हैं।इन सबको पूर्ण विश्वास है कि जिस मनोकामना को लेकर वह देवों के देव महादेव के धाम नीलकंठ मंदिर में जलाभिषेक के लिए सैकड़ों किमी का सफर तय कर घर से निकले हैं वो मनोकामना जरूर पूर्ण होगी।कांवड़ मेले की शुरुआत हो चुकी है ।शुरुआती दिनों में ही पंचक के बावजूद बड़ी भारी तादात में शिवभक्तों का सैलाब शिवधाम के लिए ऋषिकेश से कूच कर रहा है।देवभूमि ऋषिकेश से नीलकंठ जाने वाले तमाम मार्ग रात दिन बम बम के उद्वोषों सै गूंज रहे हैं।कोरोना महामारी के दो साल बाद एक बार फिर पूरे जोश के साथ कांवड़ की शुरुआत हो गई है।इस दौरान जहां एक से बढ़कर एक रंग-बिरंगी और अनोखी कांवड़ देखने को मिल रही है तो वही दूसरी और आस्था के ऐसे ऐसे रंग भी दिखाई दे रहें हैं जिन्हें देख हर कोई हैरान है।इन सबके बीच कह सकते हैं कि आस्था के कांवड़ मेले में भोले की भक्ति के आगे उनके भक्त हर कठिन परीक्षा से होकर गुजरने के लिए तैयार हैं ।इसी की झलक यहां लगातार दिखाई भी दे रही है।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: