नीलकंठ मंदिर में जलाभिषेक के टूटेगें तमाम रिकॉर्ड!

नीलकंठ मंदिर में जलाभिषेक के टूटेगें तमाम रिकॉर्ड!

रविवार को दिखा ट्रैलर,शिवभक्तों की आमद शुरू

दो वर्ष के अंतराल के बाद शुरू होगी आस्था की यात्रा

ऋषिकेश-कावंड मेले को लेकर तीर्थ नगरी ऋषिकेश शिव भक्तों से गुलजार होने लगी है।रविवार को भी विभिन्न प्रदेशों से आये शिवभक्तों ने शिवधाम नीलकंठ महादेव मंदिर की और कूच किया।

​ ​


भगवान शिव का प्रिय महीना सावन आगामी 14 जुलाई से शुरू होने जा रहा है।ऐसे में सरकार और पुलिस प्रशासन ने कांवड़ यात्रा को लेकर भी कमर कस ली है।कोरोनाकाल के बाद इस बार फुल फ्लैश में कांवड़ मेला शुरू होगा। ऐसे में अनुमान है कि इस बार नीलकंठ महादेव मंदिर में पिछले दो दशक के सर्वाधिक जलाभिषेक का रिकॉर्ड धवस्त हो जायेगा।उत्तराखंड में विश्व प्रसिद्ध चारधाम यात्रा जारी है।सूबे में मॉनसून आने के बाद भले ही चारधाम यात्रा में आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में कमी आ गई हो, लेकिन अब सबसे बड़ी चुनौती सरकार और प्रशासन के सामने कांवड़ यात्रा की है।राज्य सरकार और पुलिस प्रशासन की मानें तो हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, पंजाब, बिहार और दिल्ली के पुलिस अधिकारियों से जो फीडबैक उत्तराखंड पुलिस का बैठा है, उसके बाद यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि इस बार की कांवड़ यात्रा रिकॉर्ड तोड़ सकती है।आज रविवार को इसका ट्रेलर भी दिखाई दे गया।बड़ी संख्या में शिवभक्तों ने आज ऋषिकेश से नीलकंठ महादेव की और कूच किया।उल्लेखनीय है कि श्रावण मास के कांवड़ मेले में कोरोनाकाल से पूर्व के वर्ष तक शिवभक्तों का सैलाब उमड़ता रहा है।अब कोरोनाकाल निपटने के बाद कयास लगाये जा रहे हैं कि शिवभक्तों की संख्या में बहुत अधिक इजाफा होना तय है।ऐसे में उत्तराखंड की धाामी सरकार के लिए कांवड़ यात्रा का संचालन सबसे बड़ा टास्क होगा।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: