तीर्थ नगरी की सड़कें दे रहीं दर्द, सो रहे हमदर्द-ललित मोहन मिश्र

तीर्थ नगरी की सड़कें दे रहीं दर्द, सो रहे हमदर्द-ललित मोहन मिश्र

ऋषिकेश- तीर्थ नगरी ऋषिकेश में सड़कों को गड्ढामुक्त बनाने के अभियान परवान नही चड़ पाने की वजह से सड़कों के जख्म दूर नहीं हो पा रहे। बदहाल और जर्जर सड़कें दर्द बांट रही हैं, जो हमदर्द होने का दावा कर रहे हैं वह सो रहे हैं। शहर के किसी भी महत्वपूर्ण मार्ग पर नजर दोड़ाए तो अधिकांश संपर्क मार्ग व मुख्य मार्ग जर्जर हो गए हैं। उन पर वाहन तो दूर पैदल चलना भी दूभर है।

​ ​


अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त धार्मिक एवं पर्यटन नगरी ऋषिकेश की सड़कें लम्बे अर्से से अपनी बेबसी पर आंसू बहा रही हैं।जनप्रतिनिधि आखों में सुरमा डाले हुए हैं और जिम्मेदार कुम्भकर्णी नींद में है।आलम यह है कि शहर की कई सड़कें जर्जर हालत में हैं। जिन पर कई वर्षों से मरम्मत का कार्य नहीं कराया गया है।हरिद्वार रोड़ स्थित पुरानी चुंगी के समीप तो हालत यह है कि खस्ताहाल सड़क की वजह से लोगों को रोज हैवी जाम झेलना पड़ता है।रेलवे स्टेशन के समीप भी सड़क के बुरे हाल हो रखे हैं।नगर उधोग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के अध्यक्ष ललित मोहन मिश्र का कहना है कि ट्रिपल इंजन की सरकार में शहर की सड़कें अपने सबसे बुरे दौर में दिखाई दे रही हैं। ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र की अधिकांश सड़कों के हाल बुरे हैं।शहरी विकास मंत्री के क्षेत्र में सड़कों की खस्ताहालत हैरान करने वाली है।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: