पेयजल योजनाओं के क्रियान्वयन का किया भौतिक निरीक्षण

पेयजल योजनाओं के क्रियान्वयन का किया भौतिक निरीक्षण

ऋषिकेश-श्यामपुर खदरी खड़क माफ में विश्व बैंक पोषित पेयजल योजनाओं का जल शक्ति मंत्रालय भारत सरकार की सचिव पेयजल एवं स्वच्छता विभाग विन्नी महाजन ने पेयजल योजनाओं के क्रियान्वयन का भौतिक निरीक्षण किया।इससे पूर्व उन्होंने लक्कड़ घाट स्थित पेयजलापूर्ति स्थल पर पौधा रोपण भी किया।

​ ​


उन्होंने कहा कि दूसरों की शिकायतों पर ध्यान देने से बेहतर है हम स्वयं प्रयास करें।उन्होंने महिला स्वावलम्बन और महिला सशक्तिकरण को महत्वपूर्ण बताते हुए महिला समूहों को ग्राम विकास में भागीदारी का आवाह्न किया।गाँवों को स्वच्छता के लिए कूड़ा कलेक्शन और सेग्रिगेशन केंद्र की स्थापना जरूरी है।इसमें ग्राम पंचायत अपने स्तर पर प्रयास करें वित्त पोषण के लिए राज्य और केंद्र की सरकार हमेशा तत्पर है।जरूरत है कि हम जागरूक नागरिक बनकर पहल करें।मोदी जी का सपना है हर घर को स्वच्छजल और हर घर में शौचालय उपलब्ध हो।जिसके लिए स्वच्छ भारत मिशन के तहत लगातर योजनाएं क्रियान्वित की जा रही हैं।पौधरोपण के पश्चात जनसंवाद कार्यक्रम में उत्तराखंड सरकार सहित जिले के आलाअधिकारी भी मौजूद रहे।मौके पर उपस्थित ग्राम प्रधान संगीता थपलियाल ने मुख्यातिथि सहित उच्चाधिकारियों का शॉल ओढ़ाकर स्वागत किया।उन्होंने सचिव भारत सरकार को गंगाजली रुद्राक्ष की माला और स्मृति चिन्ह भेंट किया।ग्राम प्रधान ने सचिव भारत सरकार से कूड़ा निस्तारण के लिए वित्तीय सहायता की माँग की।कार्यक्रम में जिला गंगा सुरक्षा समिति के सदस्य पर्यावरण विद विनोद जुगलान ने बताया कि खदरी में कोई मुक्ति धाम घाट न होने के कारण हैरानी की बात है कि हमारे गाँव का व्यक्ति मरता तो देहरादून जनपद में है लेकिन घाट की सुविधा न होने के कारण अंतिम संस्कार के लिए टिहरी गढ़वाल जनपद के मुनिकी रेती घाट पर दाह संस्कार किया जाता है।यात्रा के सीजन में यह बहुत परेशानी वाला कार्य साबित होता है।ऐसे में खदरी में एक मुक्ति धाम घाट और एक आरती घाट की संस्तुति प्रदान कर घाट निर्माण किया जाय।महिला मंगल दल की अध्यक्ष मधु देवी व पंचायत वार्ड सदस्य ऊषा थपलियाल ने सचिव भारत सरकार का पेयजलापूर्ति के लिए आभार प्रकट किया।इस अवसर पर सचिव पेजल उत्तराखंड सरकार नितेश कुमार झा,नितिन भदौरिया निदेशक जल जीवन मिशन एवं अपर सचिव पेयजल, जिला स्वजल परियोजना के प्रबन्धक एवं जिला विकास अधिकारी सुशील मोहन डोभाल,जल संस्थान के अधीक्षण अभियंता नामित रमोला, पेयजल निगम के अधीक्षण अभियंता सीता राम,स्वजल परियोजना के सलाहकार डॉ हर्ष पन्त, खण्ड विकास अधिकारी डोईवाला जगत सिंह,पेयजल आपूर्ति शिकायत निवारण समिति के सदस्य शान्ति प्रसाद थपलियाल,जीत राम थपलियाल,ऊषा थपलियाल,वार्ड सदस्य मीना कुकरेती सहित समाजसेवी विनोद जुगलान सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण शामिल रहे।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: