समय पर उपचार ना मिलने से सड़क किनारे राज मिस्त्री ने तोड़ा दम

हैवी ट्रेफिक जाम व ऑटो चालक की मनमर्जियां मेहनतकश की जिंदगी पर पड़ गई भारी

समय पर उपचार ना मिलने से सड़क किनारे राज मिस्त्री ने तोड़ा दम

घटना पर गढवाल महासभा के अध्यक्ष डॉ नेगी ने जताया गहरा दुख

ऋषिकेश – हैवी ट्रेफिक जाम के बीच ऑटो चालक की मनमर्जियां एक गरीब की जिंदगी पर भारी पड़ गई।नतीजन,समय पर उपचार ना मिलने पर मेहनतकश मजदूर की सड़क किनारे ही जान चली गई।


घटना ऋषिकेश-हरिद्वार हाइवे पर की घटना खैरी खुर्द के सामने अंकित वेडिंग पॉइंट के पास की है। प्राप्त जानकारी केे मुताबिक रायवाला के वैदिक नगर फर्स्ट निवासी कमल सिंह शाही उम्र लगभग 50 वर्ष पुत्र पदम सिंह की तबियत ठीक नहीं थी।वे अपने छोटे बेटे देव सिंह शाही के साथ श्यामपुर बाईपास पर डॉक्टर को दिखाने जा रहे थे। देव ने बताया पिता ने घर पर ही तबियत ठीक नहीं होने पर बीपी की दवा भी ले ली थी, वह कुछ ठीक लग रहे थे फिर भी ऐतिहातन हम डॉक्टर के पास दिखाने जा रहे थे।हम घर से चले और शेयरिंग ऑटो लिया,जैसे ही नेपाली फार्म क्रास करके अंकित वेडिंग पॉइंट के पास पहुंचे जाम लगा हुआ था काफी लम्बा,ऐसे में ऑटो वाले ने आगे जाने सेे मना कर पिता पुत्र को वाहन से उतार दिया। बीमार व्यक्ति को उनके बेटे देव ने वहीँ पेड़ के नीचे छाँव में बैठा दिया। कुछ मिनट में उसने देखा उनके हाथ पाँव कांपने लगे और वह तड़पने लगे ।बेटे ने हाथ पाँव की मालिश की लेकिन तब तक उनकी जान चुकी थी। स्थानीय लोगों की सूचना पर तुरंत पुलिस पहुंची मौके पर पहुंची और एम्बुलेंस मंगवा कर गरीब मजदूर को हॉस्पिटल भेजा जहाँ डॉक्टर्स ने मृत घोषित कर दिया।बताया जा रहा है कि मृतक कमल पेशे से राज मिस्त्री थे। और अपने परिवार के साथ रहते थे।उधर इस मामले पर करवाल महासभा के अध्यक्ष डॉ राजे सिंह नेगी ने गहरा दुख जताते हुए कहा कि श्यामपुर फाटक बंद होने के कारण रोजाना लगने वाले ट्रैफिक जाम एवं ऑटो चालक की लापरवाही के चलते एक गरीब मेहनतकश की जान चली गई।उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के लिए नासूर बन चुकी समस्या के निस्तारण के लिए वह लंबे अर्से से मांग करते रहे हैं।समस्या का निस्तारण हुआ होता तो शायद इस घटना को टाला जा सकता था।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: