चंद्र मोहनी छाबड़ा के नेत्रों से दो दृष्टिहीनो की जिंदगी होगी रोशन

चंद्र मोहनी छाबड़ा के नेत्रों से दो दृष्टिहीनो की जिंदगी होगी रोशन

लायंस क्लब ऋषिकेश देवभूमि का 230 वां सफल प्रयास

ऋषिकेश-तीर्थ नगरी में रक्तदान के साथ-साथ नेत्रदान के प्रति नागरिकों में जागरूकता बढ़ रही है। नेत्रहीन लोगों की अंधेरी जिंदगी में रोशनी देने के महान मिशन में श्रीमती चंद्र मोहनी छाबड़ा का नाम भी जुड़ गया है।



मृत्यु के बाद भी उनके दिए गए दो नेत्रो से दो नेत्रहीन लोगों की जिंदगी रोशन हो सकेगी। नेत्रदान कार्यकर्ता व लायंस क्लब ऋषिकेश देवभूमि के चार्टर अध्यक्ष गोपाल नारंग ने बताया की हीरालाल मार्ग निवासी 80 वर्षीय चंद्रमोहनी छावड़ा का शनिवार प्रातः निधन हो गया था,। मृत्यु का ज्ञात होने पर नेत्रदान कार्यकर्ता राकेश रावल ने परिजनों को नेत्रदान के लिए प्रेरित किया व सहमति प्राप्त कर नारंग को सूचित किया। नारंग की सूचना पर एम्स हॉस्पिटल की नेत्रदान की रेस्क्यू टीम उनके निवास पर पहुंची और दोनों कॉर्निया सुरक्षित प्राप्त किए। टीम में गई डॉ पूजा व संदीप गुसाईं के अनुसार दोनों कॉर्निया स्वस्थ हैं जिन्हें आवश्यक जांचों के बाद दो नेत्रहीनों की आंखों में प्रत्यारोपित कर दिया जाएगा । परिजनों द्वारा कराए गए नेत्रदान के इस कार्य पर अरोड़वंश बिरादरी के अध्यक्ष राजेश धींगडा़ ने जगमोहन सकलानी, राहुल छाबड़ा, सतीश छाबड़ा,गिरीश छाबड़ा को साधुवाद दिया ।नेत्रदान महादान हरिद्वार ऋषिकेश प्रमुख रामशरण चावला के अनुसार मिशन का 230 वां सफल प्रयास है जो अविरल चलता रहेगा ।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: