विश्व ल्यूपस दिवस पर हिमालयन हॉस्पिटल में चलाया जागरूकता अभियान

विश्व ल्यूपस दिवस पर हिमालयन हॉस्पिटल में चलाया जागरूकता अभियान

चिकित्सकीय उपचार व देखभाल से बीमारी पर नियंत्रण

ऋषिकेश- हिमालयन हॉस्पिटल जौलीग्रांट में विश्व ल्यूपस दिवस पर जागरुकता अभियान चलाया गया। इस दौरान अस्पताल में आने वाले लोगों को ल्यूपस बीमारी के लक्ष्ण व निदान की जानकारी दी गयी।


हॉस्पिटल में ल्यूपस बीमारी को लेकर जागरुकता कार्यक्रम आयोजित हुआ। हॉस्पिटल की ओपीडी में आने वाले लोगों को संबोधित करते हुये वरिष्ठ रुमेटोलॉजिस्ट डॉ. योगेश प्रीत सिंह ने कहा कि ल्यूपस बीमारी के प्रति जागरूकता लाने के उद्देश्य से हर साल 10 मई को विश्व ल्यूपस दिवस मनाया जाता है। ल्यूपस को सिस्टेमिक ल्यूपस एरिथेमैटोसस भी कहा जाता है। यह शरीर के इम्यून सिस्टम को कमजोर बनाने वाली एक गंभीर बीमारी है और अगर इम्यून सिस्ट ही कमजोर हो जाएगा तो कई बीमारियां शरीर को घेर सकती है। अगर खान-पान के साथ जीवनशैली का खास तौर पर ख्याल रखा जाए तो इस बीमारी को नियंत्रित भी किया जा सकता है। कहा कि ल्यूपस बीमारी के बारे में पहले से कुछ नहीं कहा जा सकता कभी इसके लक्ष्ण हल्के तो कभी गंभीर होते है। लेकिन सही चिकित्सकीय उपचार और देखभाल से इस बीमारी को नियंत्रित किया जा सकता है। ल्यूपस से पीड़ित बिना चिकित्सक की सलाह से दवा बंद न करें और कोई भी नई दवा, टीका लगाने या व्यायाम शुरू करने से पहले अपने रुमेटोलॉजिस्ट से बात अवश्य करें। उन्होंने कहा कि यदि त्वचा के रंग में परिवर्तन, उच्च रक्तचाप, पेशाब में खून जाना या झाग बनना, बहुत अधिक थकान लगना, जोड़ों में दर्द होना, वजन कम हो जाना, हाथ व पैरों में सूजन, अधिक संख्या में बाल झड़ना, आंखों के आसपास सूजन आने पर रुमेटोलॉजिस्ट से संपर्क करें। इसके अलावा धूप व अल्ट्रावायलेट किरणों से बचाव, तनावमुक्त रहने, भरपूर नींद, धूम्रपान न करें, सेहतमंद भोजन, प्रोसेस्ड फूड खाने से बचें, सक्रिय रहकर इस बीमारी की रोकथाम की जा सकती है। नर्सिंग छात्र-छात्राओं ने पोस्टर प्रदर्शनी के माध्यम से लोगों के ल्यूपस बीमारी के विषय में जानकारी दी।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: