हिमालयन हास्पिटल के स्टूडेंट्स ने पोस्टर प्रदर्शनी व नाटिका के माध्यम से टी बी को लेकर लोगों को किया जागरुक

हिमालयन हास्पिटल के स्टूडेंट्स ने पोस्टर प्रदर्शनी व नाटिका के माध्यम से टी बी को लेकर लोगों को किया जागरुक

ऋषिकेश- विश्व टीबी दिवस के उपलक्ष्य में हिमालयन हॉस्पिटल (एसआरएचयू) जॉलीग्रांट की ओर से वृहद जागरुकता अभियान चलाया गया। इसमें श्वास एवं छाती रोग विभाग सहित एचआईएमएस के कम्यूनिटी मेडिसिन विभाग व नर्सिंग कॉलेज के छात्र-छात्राओं ने पोस्टर प्रदर्शनी, नाटिका सेमिनार के जरिये टीबी के लक्षण, बचाव व उपचार की लोगों को जानकारी दी।



हिमालयन हॉस्पिटल जॉलीग्रांट में छाती एवं श्वास रोग विभाग व नर्सिंग कॉलेज की ओर से संयुक्त रुप से जागरुकता अभियान चलाया गया। इसमें नर्सिंग कॉलेज के छात्र-छात्राओं ने नाटिक व पोस्टर प्रदर्शनी के माध्यम से टीबी के खतरे से बचाव को जागरुक किया। इसमें सिमरन सैनी को प्रथम, सानिया रतूड़ी को द्वितीय व नेहा कुमारी व सिमरन ने संयुक्त रुप से तृतीय स्थान प्राप्त किया। जिला टीबी कार्यालय देहरादून में उन्हें प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया।इससे पहले मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ.एसएल जेठानी व डीन डॉ.मुश्ताक अहमद, विभागाध्यक्ष डॉ.राखी खंडूरी, प्रिसिंपल डॉ.संचिता पुगाजंडी, डॉ.कमली प्रकाश ने जागरुकता शिविर का औपचारिक उद्घाटन किया। इस दौरान डॉ.सुशांत खंडूरी, डॉ.वरुणा जेठानी, डॉ.मनोज कुमार, प्रिया जेपी नारायण, प्रीति प्रभा, नीलम थापा आदि ने संचालन में सहयोग दिया।वहीं, एसआरएचयू के हिमालयन इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस के कम्यूनिटी मेडिसिन विभाग की ओर से वृहद जागरुकता अभियान के तहत जौलीग्रांट, भानियावाला, डोईवाला व गौहरीमाफी रायवाला में लोगों को टीबी के लक्षण, बचाव व उपचार की विस्तृत जानकारी दी। विभागाध्यक्ष डॉ.जयंती सेमवाल ने कहा कि खराब दिनचर्या व रोग प्रतिरोधक क्षमता घटने से टीबी के मामले बढ़े हैं। डॉ.शैली व्यास ने बताया कि टीबी दिवस को मनाए जाने का उद्देश्य टीबी से बचाव को लेकर लोगों में जागरुकता लाना है। डॉ.शैली व्यास ने बताया कि ऑनलाइन नेशनल लेवल क्वीज प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस दौरान डॉ.शैली व्यास, डॉ.नेहा शर्मा, डॉ.अभय श्रीवास्तव, डॉ.सुरभि मिश्रा, डॉ.दीपशिखा चौधरी, डॉ.दिव्या शर्मा, संजीत परमार, आकाश कृषाली आदि मौजूद रहे।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: