विधानसभा चुनाव के बाद गड़बड़ाया किचन का बजट

विधानसभा चुनाव के बाद गड़बड़ाया किचन का बजट

ऋषिकेश-उत्तराखंड के जनादेश का इंतजार कर रही जनता को महंगाई ने एक बार फिर से झटका दे दिया है।चुनाव निपटने के बाद तमाम खाद्य सामग्रियों के दाम में उछाल आया है।



चुनाव से पूर्व सरसों तेल का दाम 170 से 175 रुपये प्रति लीटर था जो अब 180 से 195 रुपये हो गया है। रिफाइंड आयल में भी तेजी आई है। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 के दौर में आइए जानें कि दैनिक उपयोग में आने वाले खाद्य तेलों और अन्‍य सामग्रियों का क्‍या हाल है, किस रेट में बिक रहे हैं। सस्‍ते हुए हैं या फिर महंगे। जाहिर है चुनावी दौर में सरसों तेल की कीमत पिछले एक महीने में 15 रुपये बढ़ गई है। वहीं सब्‍जी को जायकेदार बनाने वाले मसालों का रेट भी 30 प्रतिशत तक बढ़ गया है। इससे आम लोगों की जेब अधिक ढीली हो रही है।चुनाव निपटने के बाद पहले से जारी महंगाई के बीच किचन का बजट और बढ़ गया है। महीने भर में सरसों तेल के दाम में 15 रुपये तक की बढ़ोतरी हुई है। मसालों में करीब 30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। डेढ़ माह से मसालों में आई तेजी की वजह से खाने का जायका और बिगाड़ गया है। पिछले एक हफ्ते के अंतराल पर सरसों तेल और रिफाइड के दामों में बढ़ोतरी हुई है।आढ़त व्यापारी सूरज गुल्हाटी कहते हैं कि सरसों तेल और रिफाइंड तेल के दाम बढ़े हैं। उन्‍हांने कहा कि होली पर सरसों तेल की कीमत में उतार-चढ़ाव हो सकता है।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: