बंसतोत्सव विशेष:ऋषिकेश में धार्मिक इतिहास को समेटे है महापर्व!

बंसतोत्सव विशेष:ऋषिकेश में धार्मिक इतिहास को समेटे है महापर्व!

ऋषिकेश-त्यौहार देश की सांस्कृतिक विरासत की पहचान रहे हैं।बात यदि बंसत पंचमी पर्व की,की जाये तो मां सरस्वती के प्रकटोत्सव के लिए यह पर्व पूरे देश में उल्लास के साथ मनाया जाता है।लेकिन ऋषिकेश में यह पर्व धार्मिक इतिहास को समेटे हुए है।



पौराणिक मान्यता है कि बसंत पंचमी के दिन ही आद्य गुरु शंकराचार्य ने मायाकुंड गंगा में रखी गई भगवान की मूर्ति को श्री भरत मंदिर में पुनस्र्थापित किया था। तभी से बसंत पंचमी पर उनकी डोली यात्रा निकालने की परंपरा रही है।उत्तराखंड के ऋषिकेश क्षेत्र में बसंत पंचमी पर उत्साह देखते ही बनता है।यहां प्राचीन श्री भरत मंदिर में भगवान भरत नारायण की डोली यात्रा निकाली जाती है। पीले गुलाल से भगवान को रंगा भी जाता है और भक्तगण भी इस गुलाल से अपनी खुशी प्रकट करते हैं। मंदिर में पूजा अर्चना के साथ गुड़ की भेली भगवान को भोग में चढ़ाते हैं।यूं तो हर त्योहार का अपना अलग रंग होता है। बसंत पंचमी का भी अपना अलग ही रंग हैै,पीला रंग।इसी पीले रंग में शनिवार को देेेवभूमि रंगी नजर आयेगी।भले ही कोरोना के नये वैरियेंट ओमीक्रान की वजह से ऋषिकेश की पहचान माने जाने वाले बंसतोत्सव को इस वर्ष सादगी के साथ मनाया जा रहा है लेकिन कल बसंत पंचमी पर श्रद्वालु हर वर्ष की भांति फिर से झंडा चौक स्थित प्राचीनतम भरत मंदिर में आयोजित होने वाले डोली यात्रा में सहभागिता कर पुण्य लाभ अर्जित करेंगे। बसंत पंचमी के लिए मान्यता है कि ब्रह्मा जी ने सृष्टि का सृजन किया तो था किंतु वे संतुष्ट नहीं थे क्योंकि तब किसी भी प्रकार की ध्वनि नहीं थी केवल चारों ओर मौन व्याप्त था। तब आदि शक्ति देवी के तेज से माता सरस्वती का रूप सामने आया जिसकी वीणा से सृष्टि को ध्वनि का कौलाहल मिला। देवी सरस्वती जी को विद्या और बुद्धि की देवी के रूप में पूजा गया और इस दिन को ही हम मां सरस्वती का प्रकटोत्सव मानते हैं। माना जाता है कि इस दिन कुछ न कुछ पीला पहनना बहुत ही शुभ होता है। एक कारण यह भी कहा जाता है कि जब सरस्वती माता अवतरित हुई थीं तब ब्रह्मांड में केवल नीली, पीली और लाल रोशनी ही थी। इसलिए उस समय जो सबसे पहले आभा दिखी वो पीले रंग में थी इसलिए देवी सरस्वती की वंदना में पीले वस्त्र पहने जाते हैं। कल बंसतपंचमी पर्व पर देवभूमि में लोगों पर पीला रंग ही छाया हुआ दिखाई देना है।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: