सोमवती अमावस्या के पावन पर्व लगायी आस्था की डुबकी

सोमवती अमावस्या के पावन पर्व लगायी आस्था की डुबकी

ऋषिकेश- सोमवती अमावस्या के पावन पर्व पर सोमवार को श्रद्धालुओं ने कोविड-19 दिशानिर्देशों का पालन करते हुए त्रिवेणी घाट सहित अन्य घाटों पर गंगा में डुबकी लगाई। श्रद्धालुओं ने दान पुण्य के साथ अपने पितरों के निमित्त हवन तथा अन्य कर्मकाण्ड कराते हुए उनके मोक्ष के लिए भी प्रार्थना की।



सोमवार को प्रशासन की ओर से स्नान पर्व को सकुशल सम्पन्न कराने के लिए सुरक्षा के व्यापक बदोबस्त किये गये थे। साथ ही कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए प्रशासन ने सरकार के दिशानिर्देशों का पालन भी सुनिश्चित किया। हालांकि उदया में अमावस्या न लगने की वजह से दोपहर बाद ही अधिकाशतः श्रद्वालु गंगा
स्नान के लिए पहुंचे।श्रद्धालुओं ने ‘हर-हर गंगे’ के उद्घोष के साथ गंगा में स्नान और मन्दिरों में पूजा अर्चना करते हुए अपने परिजनों व प्रियजनों की कुशलता की कामना की। सोमवार को सोमवती अमावस्या पर्व के चलते तीर्थ नगरी के त्रिवेणी घाट सहित अन्य गंगाघाटों पर श्रद्धालुओं की भीड़ रही। हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने गंगा में आस्था की डुबकी लगाई। गंगा मैया का पूजन किया। जरूरतमंदों को दान दिया। कुष्ठ रोगियों को भोजन कराकर पुण्य कमाया। सुबह से लेकर शाम तक घाटों पर हर-हर गंगे के स्वर गूंजते रहे।बताते चलें की कल एक फरवरी को मौनी अमावस्या का भी स्नान पर्व है। इस बार जिला प्रशासन ने स्नान के लिए कोई पाबंदी नहीं लगाई है। मालूम हो कि मकर संक्रांति पर्व पर हरकी पैड़ी सहित ऋषिकेश के त्रिवेणी घाट को सील कर दिया गया था। इस बार जिला और पुलिस प्रशासन ने ऐसी कोई पाबंदी नहीं लगाई है।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: