मैली होती जा रही गंगा के लिए तथाकथित गंगा के ठेकेदार एवं जनप्रतिनिधि भी बराबर के जिम्मेदार-रवि कुमार जैन

मैली होती जा रही गंगा के लिए तथाकथित गंगा के ठेकेदार एवं जनप्रतिनिधि भी बराबर के जिम्मेदार-रवि कुमार जैन

ऋषिकेश-राम तेरी गंगा तो मैली हो ही गई थी अब उसका जल भी आचमन लायक नही है।यह दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है देवभूमि ऋषिकेश की।तीर्थ स्थली ऋषिकेश में अनेकों नाले आज भी सीधे आस्था की देवी पतीत पावनी मां गंगा में सीधे प्रवाहित होकर ना सिर्फ गंगा भक्तों की आस्था पर गहरी चोट कर रहे हैं बल्कि केन्द्र सरकार की नमामि गंगे परियोजना पर भी सवालिया निशान लगाए हुए हैं।


इस गंभीर विषय को समाजसेवी रवि कुमार जैन ने उठाते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त धार्मिक एवं पर्यटन नगरी ऋषिकेश में जनप्रतिनिधियों की उदासीनता और गंगा के तथाकथित ठेकेदारों की वजह से अपनी बेबसी पर आंसू बहाती हुई प्रतीत हो रही है।चन्द्रेश्वर नगर में सीधा नाला गंगा में गिराये जाने के बावजूद जनप्रतिनिधि आखों में सुरमा डालकर बैठे हुए हैं।जबकि योजनाओं के माध्यम से करोड़ों रूपये खर्च किए जाने के दावे सरकार की और से किए जा रहे हैं। विभिन्न संस्थानों से जुड़े समाजसेवी जैन ने बताया कि तीर्थनगरी ऋषिकेश क्षेत्र में तपोवन से लेकर लक्कड़ घाट तक करीब दस किमी क्षेत्र में दर्जनभर छोटे-बड़े नाले गंगा में मिलते हैं। इस क्षेत्र में भी नमामि गंगे परियोजना के तहत करोड़ों की लागत से निर्माण कार्य हो रहे हैं। इनमें सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी)और दूषित नालों को टेप करने की योजनाएं शामिल हैं। लेकिन विडंबना यह भी है करोड़ों रूपये खर्च करने के बावजूद देवभूमि ऋषिकेश में करोड़ों देशवासियों की आस्था की प्रतीक माने जाने वाली गंगा की स्थिति में सुधार होता नही दिख रहा।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: