उर्मिला जैन की आखों से दो लोगों की दुनिया होगी रोशन

उर्मिला जैन की आखों से दो लोगों की दुनिया होगी रोशन

ऋषिकेश-आशुतोष नगर निवासी 65 वर्षीय उर्मिला जैन आज हमारे मध्य नहीं है। लेकिन उनके परिजनों द्वारा कराए गए नेत्रदान से दो व्यक्तियों की जिंदगी में रोशनी आने के साथ-साथ उनके नेत्र भी अमर हो गए हैं।



श्रीमती उर्मिला जैन का शुक्रवार रात निधन हो गया था उनके निधन पर उनके भतीजे रवि जैन ने उनके पुत्र नितिन को नेत्रदान के लिए प्रेरित किया परिजनों से सहमति मिलने पर रवि जैन ने नेत्रदान कार्यकर्ता व लायंस क्लब ऋषिकेश देवभूमि के चार्टर अध्यक्ष गोपाल नारंग को सूचित किया। सूचना पर नारंग एम्स हॉस्पिटल की नेत्रदान की रेस्क्यू टीम के साथ पर उनके निवास पर पहुंचे और टीम ने दोनों कार्निया सुरक्षित प्राप्त कर लिए। नेत्रदान के इस कार्य की उमेश ,संदीप ,विनय भाटिया ,कमल कालरा, अमित वत्स,रेखा जैन, विशाल बिंदल, सोनाली ने भूरी भूरी प्रशंसा की है ।नेत्रदान महादान हरिद्वार ऋषिकेश प्रमुख रामशरण चावला के अनुसार मिशन का यह 205 वां सफल प्रयास है जोकि निरंतर चलता रहेगा।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: