बिजली-पानी की मूल्यवृद्धि के विरोध में उत्तराखंड जन विकास ने खोला मोर्चा

बिजली-पानी की मूल्यवृद्धि के विरोध में उत्तराखंड जन विकास ने खोला मोर्चा

ऋषिकेश- उत्तराखंड जन विकास मंच के तत्वावधान में पानी व बिजली के मूल्यों में अप्रत्याशित वृद्धि के विरोध स्वरूप मुनी की रेती विद्युत उपखंड कार्यालय में धरना दिया गया।



उत्तराखंड जन विकास मंच के अध्यक्ष आशुतोष शर्मा ने बताया कि प्रति यूनिट पर विद्युत के मूल्य में फिक्स्ड चार्ज,फ्यूल चार्ज, ग्रीन करआदि लगाया जा रहा है जो कि उपभोक्ताओं के ऊपर दोहरी मार है। इसे समाप्त कर सरकार द्वारा आम लोगों को राहत दी जानी चाहिए।
नगर पंचायत मुनिकीरेती के पूर्व अध्यक्ष शिव मूर्ति कंडवाल ने कहां कि यूपीसीएल द्वारा घरेलू उपभोक्ताओं से बिल का भुगतान मासिक ना लेकर 2 माह में लिया जाता है जिससे न्यूनतम सीमा तक विद्युत का उपयोग करने वाले उपभोक्ताओं को स्लैब का लाभ नहीं मिल पाने के कारण ऊपर के स्लैब का भुगतान करना पड़ता है। अतः यूपीसीएल द्वारा उपभोक्ताओं को प्रत्येक माह बिल दिया जाना चाहिए।तपोवन व्यापार सभा के अध्यक्ष लेखराज भंडारी ने कहा कोविड काल में घरेलू व व्यवसायिक विद्युत संयोजन वाले उपभोक्ताओं से विलंब शुल्क अधिभार नहीं लिया जाना चाहिए।कविता कंडवाल व सुभाष शर्मा ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण जो उपभोक्ता अपने बिल का भुगतान समय पर नहीं कर पा रहे हैं उनके विद्युत संयोजन ओं को एक निश्चित समय अवधि न काटा जाए।प्रदशर्नकारियों में कविता कंडवाल विनोद, राकेश शर्मा, विपिन शर्मा, जसवंत ,सुरेश ,अर्जुन गुप्ता ,धर्मेंद्र नौटियाल , नंदकुमार ,देव नारायण ,बेचन गुप्ता ,संदीप कुमार ,भगवती प्रसाद ,वीरेंद्र गुसाई, सुनील कंडवाल, महेश सिंह ,विवास चक्रवर्ती, नरेंद्र रतूड़ी, राकेश सेमवाल, राजेश कुमार अंगद आदि शामिल थे।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: