श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के समापन पर डॉ राजे सिंह नेगी का हुआ सम्मान

श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के समापन पर डॉ राजे सिंह नेगी का हुआ सम्मान

ऋषिकेश- भागवत कथा के श्रवण मात्र से ही सभी कष्टों से मुक्ति मिल जाती। इस भागदौड़ के जीवन में मोह माया कुछ काम नहीं आनी, काम आएगी तो सिर्फ प्रभु की भक्ति उसी से मोक्ष के द्वार खुलेंगे।



उक्त उद्गार व्यासपीठ से कथा प्रवचन करते हुए श्यामपुर खदरी ग्राम सभा के सामुदायिक भवन में चल रही सात दिवसीय भागवत कथा के सप्तदिवस पर व्यासपीठ पर विराजमान आचार्य विनोद गैरोला ने व्यक्त किए।कथा के समापन अवसर पर पहुँचे आप पार्टी के बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ राजे सिंह नेगी को कथा व्यास ने सम्मानित किया।इस पावन अवसर पर कथा आयोजकों को साधुवाद देते हुए डा नेगी ने कहा कि कलियुग में कथा सुनने मात्र से व्यक्ति भवसागर से पार हो जाता है। सोया हुआ ज्ञान वैराग्य कथा श्रवण से जाग्रत हो जाता है। कथा कल्पवृक्ष के समान है, जिससे सभी इच्छाओं की पूर्ति की जा सकती है। भगवान की विभिन्न कथाओं का सार श्रीमद्भागवत मे है। इस मौके पर पूर्व प्रधान सरोप सिंह पुंडीर,क्षेत्र पंचायत सदस्य श्रीकांत रतूड़ी,समाजसेवी गणेश बिजल्वाण, दिनेश कुलियाल, चन्द्र मोहन भट्ट,अधिवक्ता लालमणि रतूड़ी,पर्यावरणविद विनोद जुगरान,योगनगरी एसोसिएशन के अध्यक्ष विनोद असवाल,रोशन उपाध्याय, मुकेश पांडेय,सुबोध कंडवाल,सुनील सेमवाल,प्रवीन असवाल,विक्रांत भारद्वाज,प्यारेलाल पांडेय,प्यारेलाल भट्ट, सुंदर मनी रानाकोटी शास्त्री,चंदन सिंह नेगी,लाखी राम रतूड़ी उपस्थित थे।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: