वाहनों की बेकाबू रफ्तार पर अंकुश लगाए प्रशासन!

वाहनों की बेकाबू रफ्तार पर अंकुश लगाए प्रशासन!

ऋषिकेश-सड़क हादसों के मामलों में तीर्थ नगरी भी महानगरों से पीछे नही रही है।पुलिस प्रशासन द्वारा यहां सड़कों पर दौड़ते वाहनों पर अंकुश ना लगा पाने की वजह से आये दिन शहर की सड़कें खून से लाल हो रही हैं।


अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त धार्मिक एवं पर्यटन नगरी ऋषिकेश में हर गुजरते वर्ष के साथ बढ़ रहे सड़क हादसों से हर कोई चितिंत है।शहर के युवाओं की मानें तो तेज रफ्तार में फर्राटा भरने वाहन चालकों की रफ्तार पर अंकुश लगाए बगैर सड़क हादसों को अंकुश लगाना मुमकिन नही।जी आई सी इंटरनेशनल के चैयरमैन गौरव गोयल का कहना है कि पुलिस प्रशासन सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए योजनाएं तो बनाता है लेकिन वह प्रभावी रूप से लागू नही हो पाती।शहर की संकरी सड़कों पर बेकाबू रफ्तार की वजह से ही अनेकों दुघर्टनाएं घटित होती हैं। युवा समाजसेवी एवं लायंस क्लब रॉयल से जुड़े धीरज मखीजा का कहना है कि ट्रैफिक रूल्स का सही तरीके से पालन न करने की वजह से अधिकांश सड़क हादसे घटित होते हैं।पुलिस प्रशासन को यातायात नियमों का पालन करवाने के लिए कड़े कदम उठाने की जरूरत है। युवा समाजसेवी अंकुर टक्कर मानते हैं कि आधे अधूरे ट्रैफिक नियमों के ज्ञान एवं कम उम्र में किशोर किशोरियों के हाथों में स्कूटी एवं बाईक आ जाने की वजह से सड़क हादसों का ग्राफ शहर में बढ़ रहा है।इसके लिए वो अभिभावक भी कम दोषी नही हैं जो बिना लाईसेंस बने ही बच्चों के हाथों में गाड़ियों की चाबी सौंप देते हैं।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: