योगशालाओं की तालाबंदी से योग गुरु भुखमरी की कगार पर-डॉ राजे सिंह नेगी

योगशालाओं की तालाबंदी से योग गुरु भुखमरी की कगार पर-डॉ राजे सिंह नेगी

ऋषिकेश-विश्व भर में आज अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है लेकिन अंतर्राष्ट्रीय पटल पर पहचान रखने वाली योग नगरी ऋषिकेश के योगाचार्य योगशालाओं के ताले खुलने की अभी भी बाट जोह रहे हैं। योगाचार्यों का कहना है कि सरकार इम्युनिटी बढ़ाने के लिए योग करने की सलाह तो दे रही है लेकिन योग शालाओं के ताले नहीं खोल रही है।


पौड़ी योग एसोसिएशन के चेयरमैन डॉ राजे सिंह नेगी ने कहा कि प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए योग एक बड़ा हथियार है ।ऐसे में योग शालाओं को बंद रखना उचित नहीं है ।उन्होंने कहा कि इससे योगशाला संचालक और योगचार्यो का जीवन यापन करना मुश्किल हो गया है। डॉ नेगी ने बताया कि पौड़ी जनपद में 250 से अधिक तपोवन क्षेत्र में 100 से अधिक और ऋषिकेश क्षेत्र में 50 से अधिक योग सेंटर कोरोनावायरस महामारी के चलते बीते 2 माह से बंद पड़े हैं ।ऐसे में योग से जुड़े इन गुरुओं के सम्मुख रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है ।साल भर विदेशी योग साधकों से भरे रहने वाले इन केंद्रों पर अब सन्नाटा पसरा हुआ है ।लॉकडाउन के कारण सभी योग संचालकों को आर्थिक मंदी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने उत्तराखंड सरकार से योग सेंटर,जिम एवं कोचिंग सेंटरों को कोविड गाइड लाइन के तहत खोलने पर विचार करने के साथ ही योगाचार्यो को आर्थिक मदद प्रदान करने वाली योजना लॉन्च करने की मांग की है।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: