वर्षाकाल से पूर्व हों बाढ़ सुरक्षा के प्रबंध-विनोद जुगलान

वर्षाकाल से पूर्व हों बाढ़ सुरक्षा के प्रबंध-विनोद जुगलान

ऋषिकेश-जिला गंगा सुरक्षा समिति की पाक्षिक बैठक कोविड से सुरक्षा के दृष्टिगत वर्चुल माध्यम से जिलाधिकारी देहरादून की अध्यक्षता में एनआईसी देहरादून में आयोजित की गई वर्चुल बैठक में देहरादून मसूरी और ऋषिकेश क्षेत्र के अधिकारियों सहित नामित सदस्यों ने अपने अपने कार्यालयों से प्रतिभाग किया।



बैठक में जिला गंगा सुरक्षा समिति के नामित सदस्य पर्यावरणविद विनोद जुगलान ने खदरी खड़क माफ की सीमा पर सौंग नदी की बाढ़ से हर साल बरसात में होने वाले नुकसान का जिक्र करते हुए समिति के अध्यक्ष जिलाधिकारी देहरादून से समय पूर्व बाढ़ प्रबन्धन कराने का अनुरोध किया।जिसका उन्होंने न केवल संज्ञान लिया बल्कि तत्काल सिंचाई विभाग के अधिशाषी अभियंता दीपेन्द्र चन्द्र उनियाल को निर्देशित करते हुए एक सप्ताह के अंदर मौके का निरीक्षण कर बाढ़ प्रबन्धन रूपरेखा तैयार कर अगली बैठक में प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।साथ ही नामित सदस्य द्वारा ऋषिकेश में निराश्रित पशुओं की बढ़ती संख्या और उनसे होने वाली दुर्घटनाओं का जिक्र करते हुए जिलाधिकारी को बताया कि इन निराश्रित पशुओं के कारण आये दिन सड़क दुर्घटनाओं सहित एक किशोर की मौत हो गयी थी।जबकि गुमानी वाला में राष्ट्रीय राज मार्ग पर काँजी हाऊस की लगभग तीन बीघा भूमि खाली पड़ी है।जिलाधिकारी डॉ आशीष श्रीवास्तव ने उपजिलाधिकारी ऋषिकेश व नगर आयुक्त ऋषिकेश को समस्या का संज्ञान लेने व काँजी हाऊस के सन्दर्भ में उचित कार्यवाही करने के निर्देश दिए।इसके साथ ही जिलाधिकारी देहरादून ने स्मृतिवन ऋषिकेश में पौधारोपण के लिए आने वाले श्रद्धालुओं के लिए अलग अलग महिला-पुरुष शौचालय निर्माण में देरी होने का कारण पूछा।जिसके प्रत्योत्तर में मुख्य नगर आयुक्त ऋषिकेश नरेंद्र सिंह क्वीरियाल ने बताया कि शौचालय निर्माण की योजना गतिमान जारी है। जिस संस्था द्वारा शौचालय निर्माण की योजना तैयार की गई है उनके दो वरिष्ठ अधिकारी कोविड ग्रस्त हैं।एक से दो सप्ताह बाद शौचालय निर्माण के पुख्ता प्रबंध किए जा सकेंगे।समिति के अध्यक्ष जिलाधिकारी देहरादून ने ऋषिकेश क्षेत्र में गंगा स्वच्छता को लेकर बिछाई जा रही सीवरेज लाईन में बाधा उत्पन्न करने वालों से सख्ती से निबटने के लिए उपजिलाधिकारी ऋषिकेश वरुण चौधरी को निर्देश दिए।उन्होंने स्पष्ट किया कि गंगा जी को अपवित्र और गन्दा करने का किसी को भी अधिकार नहीं है। गंगा स्वच्छता में कहीं भी ढील बर्दाश्त नहीं की जाएगी।उन्होंने आईडीपीएल में लगने वाली साप्ताहिक हाट में पॉलीथिन के प्रयोग पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाने और जबरन पॉलीथिन के प्रयोग करने वालों का चालान करने के भी नगर निगम ऋषिकेश को आदेश दिए।वर्चुल बैठक में भी अधिकारी कोविड नियमों का पालन करते नजर आए।बैठक में मुख्य विकास अधिकारी,जिला विकास अधिकारी, पेयजल संस्थान,सिंचाई विभाग, लोक निर्माण विभाग,डीएफओ मसूरी,उप प्रभागीय वनाधिकारी ऋषिकेश ,जल संस्थान के अधिकारियों सहित समिति के नामित सदस्यों ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रतिभाग किया।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: