होली पर्व पर रासायनिक रंगों का प्रयोग पड़ सकता है भारी- डॉ राजे सिंह नेगी

होली पर्व पर रासायनिक रंगों का प्रयोग पड़ सकता है भारी- डॉ राजे सिंह नेगी

ऋषिकेश-सावधान!रंगों के त्यौहार होली पर्व की मस्ती रासायनिक रंगों के प्रयोग के चलते कहीं भारी ना पड़ जाये। रंगो के त्यौहार होली पर्व की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। होली में हुल्लड़बाजी नुकसान दायक साबित हो सकती है।खासतौर पर शरीर के सबसे नाजुक अंग आखों के लिए।यह कहना है नगर के विख्यात नेत्र रोग चिकित्सक डॉ राजे सिंह नेगी का।




​banner for public:Mayor

होली में प्रयोग किये जा रहे रंगों से होने वाले नुकसान एवं बचाव की जानकारी देते हुवे नगर के प्रसिद्ध नेत्र दृष्टि विशेषज्ञ डॉ राजे सिंह नेगी ने बताया कि आमतौर पर बाजारों में उपलब्ध रंग रासायनिक पदार्थों कांच क्रोमियम आयोडाइड लेड ऑक्साइड कॉपर सल्फेट एलुमिनियम ब्रोमाइड युक्त पदार्थों से बने होते हैं जिनका असर सीधे तौर पर हमारे समाज अस्थमा त्वचा आंख बाल किडनी पर पड़ता है।इसके अलावा पिचकारी एवं गुब्बारों का प्रयोग कम से कम करना चाहिए।अभिभावक बच्चों को समझाएं कि राह चलते व्यक्तियों एवं गाड़ियों पर गुब्बारे ना फेंके यह यह दुर्घटना एवं आपसी झगड़े का कारण बन सकता है। पानी का प्रयोग कम से कम करें क्योंकि कहा जाता है जल संचय तो जीवन संचय। उन्होंने बताया होली में इस्तेमाल किए गए रंगों से त्वचा में इरिटेट डर्मेटाइटिस एवं टॉक्सिक इरेक्शन ऑफ़ स्किन की बीमारी हो सकती है जिससे कि आपकी त्वचा सफेद लाल या काली पड़ सकते हैं ।सिल्वर पेंट से विशेष बचाव करें क्योंकि इसके इस्तेमाल से एसएफएस नाम की बीमारी होने का डर रहता है जो कभी ठीक नहीं हो पाती। आंखों पर रंग जाने पर आंखों को। तुरंत साफ पानी से धो लें जिससे कि आपके आंख की पुतली पर कोई घाव न बन पाए क्योंकि आंखों का यह घाव आंखों की अंधता का भी कारण बन सकता है।
डॉ नेगी ने कहा कि होली खेलने से पहले अपनी त्वचा एवं बालों में नारियल सरसों का तेल या कौन क्रीम लगा ले इससे होली का रंग आपकी त्वचा पर अपना असर नहीं छोड़ेगा ।सिर पर टोपी लगाये जिससे बाल रंगों के दुष्प्रभाव से बच सकें। कोई रंग लगाने आए तो अपनी आंखें बंद रखें या फिर आंखों में चश्मा पहने जिससे खतरनाक रंगों के रसायन से आपकी आंखें बच सके ।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: