महाशिवरात्रि पर्व पर महा कुंभ के शाही स्नान का अद्भुत संयोग अत्यंत फलदायी-राजेंद्र नौटियाल

महाशिवरात्रि पर्व पर महा कुंभ के शाही स्नान का अद्भुत संयोग अत्यंत फलदायी-राजेंद्र नौटियाल

ऋषिकेश-महाशिवरात्रि पर्व पर महाकुंभ के शाही स्नान की एक डुबकी सभी कष्टों से मुक्ति दिलायेगी।
कई वर्षों बाद इस बार महाशिवरात्रि महाकुंभ का अद्भुत संयोग लेकर आ रही है। उत्तराखंड के सुविख्यात ज्योतिषाचार्य पंडित राजेंद्र नौटियाल की माने तो वर्षों बाद इस तरह का संयोग निर्मित हुआ है। इसलिए इस महाशिवरात्रि का महत्व कई गुना अधिक होगा। इस शिवरात्रि पर शिव की आराधना का भक्तों को कई गुणा अधिक फल प्राप्त होगा। इस वर्ष महाशिवरात्रि का यह अदभुत संयोग महादेव की आराधना के लिए सर्वोत्तम होगा। भगवान को जलाभिषेक व पूजा-पाठ करने से घर में सुख- समृद्धि बनी रहेगी। धार्मिक कार्यों की दृष्टि से यह खास माना गया है।


​banner for public:Mayor

देश भर के शिव मंदिरों और शिवालयों में महाशिवरात्रि पर्व की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। ज्योतिषाचार्य राजेंद्र नौटियाल ने बताया की महाशिवरात्रि का पावन दिन सभी कुंवारी कन्याओं को मनचाहा वर और विवाहित महिलाओं को अखंड सुहाग का वरदान दिलाने वाला सुअवसर प्रदान करता है। अगर विवाह में कोई बाधा आ रही हो, तो भगवान शिव और जगत जननी के विवाह दिवस यानी महाशिवरात्रि पर इनकी पूजा-अर्चना करने से मनोकामनाएं अवश्य पूर्ण होती हैं। इस दिन व्रती को फल, पुष्प, चंदन, बिल्वपत्र, धतूरा, धूप, दीप और नैवेद्य से चारों प्रहर की पूजा करनी चाहिए। दूध, दही, घी, शहद और शक्कर से अलग-अलग तथा सबको एक साथ मिलाकर पंचामृत से शिव को स्नान कराकर जल से अभिषेक करें। चारों प्रहर के पूजन में शिव पंचाक्षर ‘ओम् नमः शिवाय’ मंत्र का जप करें। जो व्यक्ति पूरे वर्ष कोई उपवास नहीं रखता है, लेकिन वह केवल शिवरात्रि का ही व्रत कर लेता है तो उसे साल भर किए जाने वाले उपवासों के बराबर फल की प्राप्ति होती है।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: