हृदय रोग से बचाव के लिए अव्यवस्थित दिनचर्या का करें त्याग- डॉ हरिओम प्रसाद

हृदय रोग से बचाव के लिए अव्यवस्थित दिनचर्या का करें त्याग- डॉ हरिओम प्रसाद

ऋषिकेश- विश्व हद्वय दिवस पर आई एम ए के अध्यक्ष डॉ हरिओम प्रसाद ने कोविड-19 के समय में दिल का खास ख्याल रखने की जरूरत पर जोर दिया है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की ऋषिकेश शाखा के अध्यक्ष डॉ प्रसाद के अनुसार दिल को सुरक्षित रखने के लिए लोगों का जागरूक होना जरूरी है। अव्यवस्थित दिनचर्या, तनाव, गलत खान-पान, पर्यावरण प्रदूषण एवं अन्य कारणों के चलते हृदय की समस्याएं तेजी से बढ़ी हैं। छोटी उम्र से लेकर बुजर्गों तक में हृदय से जुड़ी समस्याएं होना आम बात हो गई है। ऐसे में अपने दिल के लिए जागरूक रहेंं। जरूरी सावधानी अपनाकर खुद को सुरक्षित रखे।

डॉ प्रसाद के अनुसार जिंदगी की भाग दौड़ में सुख व शांति और सेहत बहुत पीछे छूटती जा रही है। आर्थिक उन्नति में सेहत की तरफ हमारा ध्यान कमजोर हो गया। मनुष्य की दिनचर्या पटरी से उतर गई। तनाव ने उसे घेर लिया। खान-पान ठीक नहीं है। पर्यावरण प्रदूषण, धूम्रपान, शारीरिक मेहनत आदि अन्य कारणों के चलते हृदय की समस्याएं तेजी से बढ़ी हैं।
इसी के प्रति जागरूकता के लिए हर साल 29 सितम्बर को विश्व हृदय दिवस मनाया जता है। आई एम ए अध्यक्ष डा प्रसाद ने हृदय रोग से बचाव के लिए सुबह-शाम पैदल चलने ,नियमित रूप से व्यायाम करने ,ताजे फल और सब्जियों का सेवन के साथ धूम्रपान का सेवन पूरी कैसे बंद कर देने का सुझाव दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: