सिर्फ मास्क ही नहीं, आंखों की सुरक्षा भी जरूरी- डॉ राजे सिंह नेगी

सिर्फ मास्क ही नहीं, आंखों की सुरक्षा भी जरूरी- डॉ राजे सिंह नेगी

ऋषिकेश- देशभर के साथ तीर्थ नगरी भी कोरोनावायरस के कहर से कराह रही है। प्रशासन के तमाम प्रयासों के बावजूद अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त धार्मिक एवं पर्यटन नगरी ऋषिकेश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार तेजी से बढ़ रहे हैं। जानकार इसके लिए काफी हद तक लोगों द्वारा बरती जा रही लापरवाही को भी जिम्मेदार मान रहे हैं।

कोरोना से बचने के लिए मास्क पहनना है ।क्योंकि यह मुंह से निकलने वाली ड्रॉपलेट्स से फैलता है। मुंह और नाक को कवर करने के साथ ही आंखों को भी सुरक्षित रखने की जरूरत है। नगर के नेत्र रोग विशेषज्ञ समाजसेवी डॉ राजे सिंह नेगी के अनुसार यह संक्रमण आंखों के जरिए भी हो सकता है। उन्होंने बताया कोरोना काल में नाक और मुंह की सुरक्षा की तरफ सभी का ध्यान है, लेकिन आंखों को कवर करने के बारे में कोई बात नहीं कर रहा है।

डा. नेगी ने बताया कि कोविड-19 हमारे मुंह और नाक में से निकले ड्रॉपलेट्स के माध्यम से फैलता है। यह किसी सतह पर लंबे समय तक सक्रिय रहता है। लोहे की सतह पर यह 24 घंटे तक सक्रिय रह सकता है। यदि कोई व्यक्ति उस सतह को छूता है तो वायरस के कण हाथ पर लग जाते हैं और यदि इन्हीं हाथों को आंख, मुंह और नाक से लगाया जाए तो ये वायरस व्यक्ति में प्रवेश कर सकता है। वे कहते हैं कि मुंह और नाक तो मास्क से कवर हो जाते हैं, लेकिन आंखों को कवर नहीं किया गया तो हाथ आंखों से लगेंगे और संक्रमण होने खतरा हो सकता है। जब कोई संक्रमित व्यक्ति छींकता या खांसता है तो हमारी श्वांसनली से ड्रॉपलेट्स बाहर निकलते हैं और ये हवा में छह से आठ फीट की दूरी तक जाते हैं। ये ठीक हवा में स्प्रे करने के समान होता है। इससे बचने के लिए हमें संक्रमित व्यक्ति से आठ फीट दूर रहना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: