शादियों में कॉकटेल के विरुद्ध जारी रहेगा अभियान-कुसुम जोशी

शादियों में कॉकटेल के विरुद्ध जारी रहेगा अभियान-कुसुम जोशी

ऋषिकेश- वैश्विक महामारी कोरोना वायरस से आज सारी दुनिया दुनिया जूझ रही है। लेकिन इस महामारी के चलते गरीब परिवारों का जरूर भला हो गया है जिनके परिवारों में बेटियों के हाथ पीले होने थे। मध्यमवर्गीय परिवारों की शादियों में काकटेल पार्टियों का चलन भी रूका है जोकि सामाजिक दृष्टिकोण से एक अच्छा कदम है।

उत्तराखंड को नशा मुक्त और शादियों में काकटेल के विरोध के लिए अभियान चला रही मैत्री संस्था की अध्यक्ष कुसुम जोशी की माने तो वैश्विक महामारी कोरोना ने लोगों की जीवन शैली में ही बदलाव नहीं किया है बल्कि वैवाहिक आयोजनों पर भी असर डाला है। सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से आयोजित होने वाले विवाह समारोह सादगी पूर्ण तरीके से आयोजित हो रहे हैं इसकी वजह से गरीब एवं मध्यम वर्ग के परिवारों को तो राहत मिली ही है साथ ही शादियों में होने वाली काकटेल पार्टियों का चलन भी थमा है।उन्होंने बताया कि संस्था कई वर्षों से नशा मुक्त शादियों को लेकर अभियान चला रही है। शादियों में कॉकटेल का विरोध करने वाले परिवारों को संस्था की ओर से सम्मानित भी किया जाता रहा है।
उन्होंने बताया कि लाकँडाउन के दौरान हुई शादियों में सोशल मीडिया के जरिए उन तमाम परिवारों की हौसला अफजाई की गई जिन्होंने काकटेल पार्टियों का पूरी तरह से विरोध किया। संस्था ऐसे परिवार को को सोशल मीडिया के जरिए बधाई संदेश प्रसारित कर रही है जिन्होंने संस्था के आग्रह पर ना सिर्फ अपने वैवाहिक आयोजनों के फोटो संस्था को उपलब्ध कराएं बल्कि सादगी पूर्ण तरीके से हुए वैवाहिक आयोजनों के अनुभव भी संस्था के साथ सांझा किए।मैत्री संस्था की अध्यक्ष कुसुम जोशी के अनुसार शादी वाले परिवारों में यमकेश्वर से ताजवर सिंह पयाल, श्रीनगर से राजेंद्र प्रसाद किमोठी, ऋषिकेश से सुधीर लखेड़ा, देहरादून से श्रीमती सुदेश थपलियाल, चंबा से विजय तिवारी, टिहरी से कर्ण सिंह तोपवाल, चमोली से हीरा सिंह नेगी आदि को संस्था की मुहिम से जुड़ने के लिए उनको अभिनंदन पत्र भिजवाये गये हैं। उन्होंने बताया कि कॉकटेल के विरुद्ध चलाया जा रहा अभियान आगे भी इसी प्रकार जारी रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: