विश्व पर्यावरण दिवस पर स्मृति वन में किया पौधारोपण

विश्व पर्यावरण दिवस पर स्मृति वन में किया पौधारोपण

ऋषिकेश-वन क्षेत्र ऋषिकेश की कक्ष सँख्या दो लाल पानी वन बीट अन्तर्गत स्थापित स्मृतिवन में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर प्रभागीय वनाधिकारी देहरादून राजीव धीमान के आदेशों पर वनक्षेत्राधिकारी ऋषिकेश एम एस रावत,निवर्तमान आर ओ ऋषिकेश आर पी एस नेगी एवं स्मृतिवन के संरक्षक पर्यावरणविद विनोद जुगलान विप्र सहित वन अधिकारियों ने संयुक्त रूप से पौधरोपण कर पर्यावरण दिवस मनाया बल्कि पूर्व में रोपित किये गये पौधों की देखभाल करते हुए शारीरिक दूरी का पालन करते हुए पौधों के चारों ओर उनके थलावे भी बनवाये।पर्यावरणविद विनोद जुगलान ने बताया कि इस वर्ष पर्यावरण दिवस जैवविविधता पर आधारित है।बीते वर्षों में 80 लाख से अधिक जीव जन्तु,पेड़ पौधे और वनस्पति लुप्त हो चुके हैं जबकि दस लाख से अधिक जीवजन्तु लुप्त होने की कगार पर हैं।सिर्फ ऋषिकेश की ही बात करें तो तीन दशक पूर्व सामान्य रूप से पायेजाने वाले गिद्ध और गोह जैसे जीव सहित आसपास पाए जाने वाले कंकोडे (जँगली करेले) अब लुप्तप्राय हो चुके हैं।इससे ही अनुमान लगाया जा सकता है कि विकास के साथ-साथ जैवविविधता कितनी प्रभावित हो चुकी हैं।उन्होंने बताया कि स्मृतिवन के संरक्षण का खाका पूर्ण रूप से तैयार हो चुका है।लॉक डाउन की समाप्ति के साथ ही हालात सामान्य होते ही स्मृति वन में रोपित पौधों की सुरक्षा हेतु विशेष प्रकार के ट्रीगार्ड लगाए जाएंगे जिन पर फोटो भी लगाई जाएंगी।उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए हम सिर्फ जिक्र न करें बल्कि पौधरोपण के साथ-साथ पौधों के संरक्षण की फिक्र करें।मौके पर उपस्थित वनक्षेत्राधिकारी ऋषिकेश एम एस रावत ने कहा कि पौधरोपण से अधिक महत्वपूर्ण है उनका संरक्षण।यदि पौधरोपण के बाद संरक्षण न हो तो पौधरोपण महज औपचारिकता बन कर रह जायेगी।इस कार्य के लिए हमें मिलकर चलना होगा।मौके पर निवर्तमान वन क्षेत्राधिकारी आर पी एस नेगी वन दरोगा स्वयंम्बर दत्त कण्डवाल,वन दरोगा राम पाल पाठक,वन दरोगा मनसा राम गौड़,वन दरोगा विनोद रावत,वन बीट अधिकारी शिवराज सिंह, वन बीट अधिकारी राजेश बहुगुणा,वनआरक्षी सुभाष बहुगुणा,वन कर्मी देवेंद्र सिंह,सोनू आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: